ख़बरपटनाबिहारराज्यस्वास्थ और लाइफ स्टाइल

जयप्रभा मेदांता हाॅस्पिटल ने इमरजेंसी व ट्राॅमा मरीजों के लिए समिट का आयोजन किया

पटना : जयप्रभा मेदांता सुपर स्पेशिलिटी हाॅस्पिटल, पटना ने रविवार को इमरजेंसी एंड ट्राॅमा समिट का आयोजन किया जिसके चिकित्सा जगत और उससे जुड़े प्रमुख लोगों ने चिकित्सकों के साथ भाग लिया। बिहार सरकार के स्वास्थ्य सचिव श्री संजय सिंह इस मौके पर मुख्य अतिथि बनाए गये थे। इस समिट का उद्देश्य इमरजेंसी एवं ट्रामा केयर में नयी तकनीकों और अनुभव को साझा करना था जिससे मरीज़ के इलाज में बेहतर परिणाम प्राप्त हो सके । इस समिट में हर प्रकार के इमरजेंसी में आये केस पर सही प्रबंधन पर गहन रूप से चर्च हुई । समिट में आए वक्ताओं ने इस बात पर सहमति जतायीं की इमरजेंसी एंड ट्राॅमा के मरीजों को त्वरित और बेहतर इलाज समय से मिलना चाहिए ताकि उनकी जान बचाई जा सके। इसके लिए हम सभी को सामूहिक प्रयास की आवश्यकता है। बड़े हॉस्पिटल के साथ साथ छोटे हाॅस्पिटल का कर्तव्य बनता है कि मरीज को अपने उपलब्ध सुविधाओं के आधार पर इलाज करें और गंभीर मरीज़ों को अन्य उच्च हाॅस्पिटल के लिए रेफर सही समय पर करें ताकि समय पर जान बचायी जा सके ।साथ ही सभी हॉस्पिटल्स सुनियोजित और सुनिश्चित करें कि एम्बुलेंस में सभी जीवन रक्षक उपकरण और दवाएं उपलब्ध हो ताकि रास्ते में मरीज की परेशानी न बढ़े। समिट में ऐसे मरीजों के प्रभावी इलाज के लिए जीवनरक्षक उपकरण और तकनीकों पर आये डाॅक्टरों ने चर्चा भी की । इस मौक़े पर अस्पताल के मेडिकल डायरेक्टर डा रवि शंकर सिंह ने बोला की मेदांता हॉस्पिटल ईलाज के साथ साथ सही जानकारी बिहार के नागरिकों तक पहुँचाने के लिए प्रतिबद्ध है और हमेशा ऐसे कार्यक्रम करता रहता है जिससे सही जानकारी चिकित्सा क्षेत्र में जा सके और यह समिट उसमे एक कड़ी है । बिहार में निजी क्षेत्र में सबसे बड़ी इमरजेंसी टीम मेदांता हॉस्पिटल में उपलब्ध है और ट्रामा मरीज़ों को उत्कृष्ट और सबसे प्रभावी ईलाज़ उपलब्ध कराने के लिए लेवल 1 ट्रामा सेंटर भी है ।
समिट का आयोजन दो सेशन के किया गया। पहला था साइंटिफिक प्रोग्राम और दूसरा था वर्कशाॅप। पहले सेशन में जयप्रभा मेदांता हाॅस्पिटल के इमरजेंसी तथा ट्राॅमा के सर्जरी हेड तथा आयोजन अध्यक्ष डाॅ. अभिषेक कुमार ने आगन्तुकों का स्वागत किया। इस सेशन में पेट में इमरजेंसी के बारे में डाॅ. गौरव कुमार ने विस्तार से बताया। स्ट्रोक इमरजेंसी पर डाॅ. कुमार राज ने अपने अनुभव साझा किये। सर में चोट की इमरजेंसी के बारे में न्यूरो सर्जन डाॅ. मुकुन्द प्रसाद ने व्याख्यान दिये। हड्डी रोग की इमरजेंसी के बारे में डाॅ. राजीव रंजन सिंहा ने चर्चा की। विषाक्त भोजन या विष के सेवन से होने वाले जोखिम और उनका सही ईलाज के बारे में डाॅ. किशोर झुनझुनवाला ने अपने विचार व्यक्त किये। एडवांस क्रिटिकल केयर इमरजेंसी पर डाॅ. दिवेन्दु भूषण ने प्रकाश डाला। हाइपरटेंशन इमरजेंसी एंड रीदमिया पर हृदय रोग विशेषज्ञ डाॅ. प्रमोद कुमार ने विस्तार से बातचीत की। इसके अलावा डाॅ. राम्याजीत लाहिरी, डाॅ. तमोरिष कोले ने भी अपने अनुभव साझा किए। डाॅ. सैयद फैज अहमद ने धन्यवाद ज्ञापन किया। पैनेलिस्ट में स्वास्थ्य सचिव श्री संजय सिंह, डाॅ. उदयकांत मिश्रा, बिहार के पूर्व डीजीपी संजीव कुमार सिंघल, जयप्रभा मेदांता हाॅस्पिटल के मेडिकल डायरेक्टर डाॅ. रवि शंकर सिंह मौजूद थे।

वर्कशाॅप में डाॅ. शुभलेस कुमार, डाॅ. विशाल वैभव, डाॅ. दिव्या ज्योति और डाॅ. शशि कुमार, डाॅ. नेहा कुमारी और डाॅ. नीरज कुमार ने प्रभावी ईलाज में उपयुक्त होने वाले उपकरण और तकनीकों का प्रैक्टिकल करके दिखाया।

इस समिट में बिहार के सभी सरकारी एवं प्राइवेट मेडिकल काॅलेजों के अधीक्षक, उपाधीक्षक तथा ट्रामा हेड शामिल थे। इसके अलावा बिहार के सभी सिविल सर्जन, पुलिस के अधिकारी, एनडीआरएफ टीम के वरीय अधिकारी भी शामिल थे।

Leave a Reply